Video

Prime Time | Delhi Violence - विवादों के बहाने घायलों और मारे गए लोगों से नजर हटाने की कोशिश

Prime Time | Delhi Violence - विवादों के बहाने घायलों और मारे गए लोगों से नजर हटाने की कोशिश
दिल्ली दंगों की बहसें बड़ी होने लगी हैं. इन बहसों के लिए खलनायक चुन लिए गए हैं ताकि बैठे-बैठे प्रवक्ताओं के भाषण में जोश आ सके. धीरे-धीरे अब चैनलों से मरने वालों की संख्या भी हटती जा रही है, लेकिन उनके पीछे उनके परिवार वाले अलग-अलग चुनौतियों से जूझ रहे हैं. यूपी के कासगंज के प्रेम सिंह रिक्शा चलाने दिल्ली आए थे. प्रेम सिंह ब्रिजविहार में किराए के मकान में बीवी और तीन बच्चियों के साथ रहते थे. प्रेम सिंह की उम्र 26-27 साल थी. न तो प्रेम सिंह साक्षर थे और न ही उनकी पत्नी साक्षर हैं. प्रेम सिंह की पत्नी के नाम पर बैंक में खाता भी नहीं है. सरकार जो पैसा देगी उसे रखने के लिए बैंक में खाता खुलवाने की कोशिश की जा रही है. प्रेम सिंह के घर का खर्च कैसे चलेगा, क्योंकि सरकार द्वारा दिया जा रहा पैसा तो बहुत कम है. प्रेम सिंह की पत्नी अपनी तीन बेटियों को लेकर किस जीवन यात्रा पर निकलेंगी? इस सवाल का जवाब किसी भी प्रवक्ता के भाषण में नहीं है जो टीवी डिबेट में आरामकुर्सी पर बैठे हैं. दंगों की हिंसा और क्रूरता से बहस ने दूरी बना ली है. कुछ लोग दंगा पीड़ितों की मदद कर रहे हैं. लेकिन दंगों की बहस दंगों से भी ज्यादा क्रूर हो गई है. NDTV India is a 24-hour Hindi news channel. NDTV India established its image as one of India's leading credible news channels, and is a preferred channel by an audience which favours high quality programming and news, rather than sensational infotainment. NDTV India's popular shows revolve around: news, politics, economy, sports, panel discussions with eminent personalities and noteworthy commentaries. NDTV इंडिया भारत का सबसे निष्पक्ष और विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ चैनल है. NDTV इंडिया पर आप पॉलिटिक्स, बिजनेस, स्पोर्ट्स और बॉलीवुड से जुड़ी ताज़ा ख़बरें देख सकते हैं. सबसे निष्पक्ष और विश्वसनीय लाइव ख़बरों के लिए हमारे साथ बने रहें. देखें NDTV इंडिया लाइव, फ़्री डिश पर चैनल नं 45 चैनल सब्सक्राइब करें : हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : हमें ट्विटर पर फॉलो करें : NDTV Apps डाउनलोड करें : अन्य वीडियो देखें :